केजरीवाल ने LG को पत्र लिखकर पेश किया सरकार बनाने का दावा, दिल्ली की 7वीं विधानसभा का गठन

आप प्रमुख अरविन्द केजरीवाल ने पार्टी के विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखकर सरकार बनाने का दावा पेश किया है। यह जानकारी सूत्रों ने दी। सूत्रों ने इस आशय की जानकारी देते हुए यह संकेत दिया कि रामलीला मैदान में रविवार (16 फरवरी) को होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में आप संभवत: दूसरे दलों के वरिष्ठ नेताओं और मुख्यमंत्रियों को आमंत्रित नहीं करेगी।

सूत्रों ने बताया कि आप प्रमुख द्वारा अगली सरकार बनाने के लिए दावा पेश किया जाना औपचारिक प्रक्रिया है। केजरीवाल को 12 फरवरी को ही पार्टी के विधायक दल का नेता चुना गया। दिल्ली विधानसभा चुनाव में बेहतरीन जीत दर्ज करके केजरीवाल 16 फरवरी को लगातार तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले हैं।

सूत्रों ने बताया कि शपथग्रहण समारोह जनता के लिए खुला है, लेकिन आम आदमी पार्टी दूसरे दलों के नेताओं और मुख्यमंत्रियों को बुलाने पर विचार नहीं कर रही है क्योंकि वह केन्द्र की भाजपा नीत सरकार के खिलाफ ”टकराव वाली छवि नहीं बनाना चाहती।” हालांकि, उन्होंने कहा कि पार्टी ने अभी तक अंतिम फैसला नहीं लिया है।

दिल्ली की सातवीं विधानसभा का गठन किया गया
वहीं दूसरी ओर, दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी की बड़ी जीत के एक दिन बाद बुधवार (12 फरवरी) को नई दिल्ली विधानसभा का गठन कर दिया गया। दिल्ली विधानसभा के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कहा गया है कि चुनाव आयोग ने आठ फरवरी हुए चुनाव के नतीजे अधिसूचित कर दिए हैं। ट्विटर हैंडल के अनुसार, ”इसी के साथ राष्ट्रीय राजाधानी क्षेत्र की सातवीं विधानसभा का गठन 12.02.2020 (जनप्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 73) से प्रभावी होता है।”

इससे पहले दिन में दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी रणवीर सिंह ने चुनाव आयोग के वरिष्ठ प्रधान सचिव के एफ विलफ्रेड के साथ राज्यपाल अनिल बैजल से मुलाकात कर उन्हें नव-निर्वाचित विधायकों की सूची सौपी। मंगलवार (11 फरवरी) को आए दिल्ली विधानसभा के चुनाव नतीजों में आम आदमी पार्टी को 62 सीटों पर जीत मिली, जबकि भाजपा ने आठ सीटों पर जीत हासिल की।