विजय माल्या के प्रत्यर्पण पर बोली CBI, उसे जल्द से जल्द भारत लाया जाएगा

लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने फरार शराब कारोबारी विजय माल्या के प्रत्यर्पण की मंजूरी दे दी है. इस मामले में CBI के प्रवक्ता ने कहा कि हम लंदन कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं. मुझे उम्मीद है कि उन्हें जल्द से जल्द लंदन से भारत लाया जाएगा. CBI ने इस केस में बहुत मेहनत की है. हमें पूरा विश्वास था कि जीत हमारी होगी, क्योंकि हमारे पास उनके खिलाफ ठोस सबूत हैं. हमने उनके खिलाफ अपना पक्ष बहुत मजबूती से कोर्ट में रखा.

विजय माल्या अप्रैल से बेल पर बाहर हैं. वे बार-बार कहते आ रहे हैं कि उन्होंने किसी तरह का फ्रॉड नहीं किया है, बल्कि उन्हें राजनीति का शिकार बनाया जा रहा है. कोर्ट के फैसले पर किंगफिशर की पूर्व कर्मचारी नीतू शर्मा ने कहा कि मैं कोर्ट के फैसले का स्वागत करती हूं. उनपर फंड को डायवर्ट करने का आरोप है. लेकिन, गहराई से समझने पर साफ पता चलता है कि यह केवल लोन रीपेमेंट का मामला नहीं बनता है, बल्कि आपराधिक मामले भी बनते हैं.

अब कोर्ट के फैसले को ब्रिटेन के गृह विभाग के पास भेजा जाएगा और गृह मंत्री साजिद जाविद इसके आधार पर निर्णय देंगे. दोनों पक्षों के पास इस फैसले को ब्रिटिश उच्च न्यायालय में चुनौती देने की अनुमति होगी. उल्लेखनीय है कि माल्या अपने खिलाफ मामले को राजनीति से प्रेरित बताता रहा है. हालांकि, माल्या ने ट्वीट कर कहा था, “मैंने एक भी पैसे का कर्ज नहीं लिया. कर्ज किंगफिशर एयरलाइंस ने लिया था. दुखद कारोबारी विफलता की वजह से यह पैसा डूबा है. गारंटी देने का मतलब यह नहीं है कि मुझे धोखेबाज बताया जाए.”

माल्या ने कहा कि मैंने मूल राशि का 100 प्रतिशत लौटने की पेशकश की है. इसे स्वीकार किया जाए. माल्या के खिलाफ प्रत्यर्पण का मामला मजिस्ट्रेट की अदालत में पिछले साल चार दिसंबर को शुरू हुआ था.