कोरोना वायरस ने बदला रूप-रंग, इन नए ‘लक्षणों’ को नजरअंदाज करना पड़ सकता है भारी

आप पिछले करीब 3 महीनों से यही समझ रहे थे कि अगर आप में मुख्य तौर पर सूखी खांसी, सांस लेने में तकलीफ, तेज बुखार और जुकाम जैसे लक्षण दिख रहे हैं तो आपको कोरोना की जांच करवाने की जरूरत है लेकिन हम आपको दुनियाभर के देशों में हुए रिसर्च के मुताबिक वो जानकारी देने वाले हैं जिसमें भारत ही नहीं पूरी दुनिया में कोरोना वायरस (coronavirus) ने अपना रूप रंग बदल लिया है लेकिन पहले आपको पिछले दो दिनों में आए कोरोना के इन नए मामलों को समझना बेहद जरूरी है लेकिन पहले आपको पिछले दो दिनों में आए कोरोना के इन नए मामलों को समझना बेहद जरूरी है.

शनिवार को दिल्ली में कोरोना के 186 नए मामले सामने आए. डराने वाली बात ये है कि इन सभी मे कोरोना के लक्षण नहीं थे. इन सभी को पता ही नहीं था की उन्हें कोरोना है, वो कोरोना वायरस को लेकर घूम रहे थे. यहां तक कि इनमें से एक ने दिल्ली सरकार के फूड सेंटर में जाकर खाना भी बांट रहे थे. अब आपको इंदौर की ये खबर बताते हैं. इंदौर के जुनी थाने के एसएचओ  देवेंद्र चंद्रवंशी की कोरोना वायरस से मौत हो गई है. 

एसएचओ देवेंद्र 30 मार्च से अरविंदो अस्पताल में भर्ती थे. कोरोना की उनकी पहली रिपोर्ट पॉजिटिव थी. एक बार स्वास्थ्य बिगड़ा लेकिन फिर लगातार सेहत में सुधार होता रहा. 13 और 15 अप्रैल की  दोनों टेस्ट रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज करने पर विचार शुरू हुआ लेकिन शनिवार रात अचानक ह्रदय गति तेज हो गई और उनकी मौत हो गई. इलाज करने वाले डॉक्टर के मुताबिक एसएचओ देवेंद्र को पल्मोनरी एम्बुलिजम हुआ है जो एक तरह का हार्ट अटैक है. 

जाहिर है कोरोना के लक्षण अब इस तरह बदल रहे हैं कि लोग अब समझ नहीं पा रहे हैं. दुनियाभर में हुए रिसर्च के मुताबिक पुराने लक्षण में तेज बुखार होता है ..तो नए लक्षण में पैरों में घाव के मामले भी सामने आ रहे हैं. पुराने लक्षण में सूखी खांसी आती है लेकिन अब पेट में दर्द, पुराने लक्षण में गले में दर्द तो नए लक्षण में स्वाद नहीं आना शामिल है. पुराने लक्षण में सांस में तकलीफ तो नए लक्षण में लगातार सिरदर्द, पुराने लक्षण में सीने में दर्द जबकि नए लक्षण में ब्रेन स्ट्रोक तक की बात कही गई है. 

कोरोना महामारी की शुरुआत में विश्व स्वास्थ्य संगठन और सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन ने इसके लक्षणों पर एडवाइजरी जारी की थी। जिसके मुताबिक, बुखार, सांस लेने में तकलीफ, खांसी, सीने में तेज दर्द, चेहरा या होंठ नीला पड़ना, संक्रमण के लक्षण थे लेकिन पिछले 4 महीने में जो मामले सामने आए उसमें कई और लक्षण शामिल हो गए हैं. जाहिर है इन्हें नजरअंदाज करना भारी पड़ सकता है. 

‘कोरोना’ संक्रमण के नए ‘लक्षण’   
पैर में गहरा घाव

– अंगूठे में जामुनी रंग के घाव के साथ खुजली और अकड़न. 

पेट में तकलीफ
– यूरोपे के देशों में कई मरीज़ों के पेट में दर्द, उल्टी और डायरिया जैसे लक्षण दिखे हैं. 

खाने में स्वाद न आना 
– स्वाद महसूस ना होना और खुशबू को ना सूंघ पाना. 

ब्रेन स्ट्रोक
– लगातार सिरदर्द के साथ दिमाग में सूजन और दिमागी दौरे