पाकिस्तान का नया पैंतरा, बॉर्डर पर फायरिंग कर दो किलोमीटर पीछे भाग जाती है पाकिस्तानी सेना!

सीजफायर का लगातार उल्लंघन कर रही पाकिस्तानी सेना को बार-बार मुंह की खानी पड़ रही है। पिछले एक सप्ताह से पाकिस्तानी सेना, रेंजर्स, आईएसआई की तरफ से तैयार किए गए भाड़े के स्नाइपर और आतंकियों से बनी बॉर्डर एक्शन टीम (बैट), ये सभी मिलकर जम्मू कश्मीर से लगते बॉर्डर के किसी न किसी हिस्से पर फायरिंग कर रहे हैं। इनका मकसद है कि किसी भी तरह आतंकियों को भारतीय सीमा में घुसपैठ कराना। हालांकि कुछ दिनों से पाकिस्तानी सीमा में एक नया डर देखने को मिला है।

दो किमी तक भाग जाते हैं पीछे

भारतीय सुरक्षा बलों के सूत्र बताते हैं कि सीमा पार से जब फायरिंग होती है, तो उसके बाद पाकिस्तानी सैनिक और उनके गुर्गे दो किलोमीटर तक पीछे भाग जाते हैं। इससे पहले वे अपनी बीओपी के आसपास या बंकरों में छिपे रहते थे। अब उन्हें यह डर रहता है कि भारतीय सेना पाकिस्तान सीमा में चल रहे आतंकियों के ट्रेनिंग कैंपों पर कभी भी धावा बोल सकती है। हाल ही में जम्मू-कश्मीर के तंगधार सेक्टर में पाकिस्तानी सेना और उनके साथ आए आतंकियों को पीछे भागते देखा गया था।

पीओके में आतंकी अड्डे हो चुके हैं तबाह

कश्मीर में तैनात एक सैन्य अधिकारी बताते हैं कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाने के बाद से पाकिस्तान लगातार भारत के खिलाफ कुछ न कुछ कर रहा है। कभी उनकी सेना फायरिंग करती है, तो कभी रेंजर्स। इनके अलावा आईएसआई के स्नाइपर और आतंकी भी एलओसी पर आकर छिटपुट फायरिंग कर रहे हैं। पाकिस्तान का प्रयास है कि पीओके के ट्रेनिंग कैंपों में जितने भी आतंकियों ने प्रशिक्षण लिया है, उन्हें एक-दो माह के भीतर भारत की सीमा में धकेल दिया जाए। अभी तक बॉर्डर पर घुसपैठ की दर्जनों कोशिशें नाकाम रही हैं। 2016 की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारतीय सेना कई बार पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) में मौजूद आतंकी अड्डों को तहस-नहस कर चुकी है।