दिल्ली विधानसभा चुनाव परिणाम: कांग्रेस दिल्ली में फिर साफ, वोट भी हुआ हाफ

कांग्रेस के लिए 2015 के विधानसभा चुनाव की तरह 2020 नतीजों में भी कुछ बदलाव होता नजर नहीं आ रहा है। शुरुआती रुझानों के मुताबिक, कांग्रेस के लिए बल्कि बुरी खबर है कि दिल्ली में उसका वोट शेयर अब आधा रह गया है। चुनाव आयोग द्वारा सुबह 10:30 बजे तक 64 सीटों के रुझान में कांग्रेस का खाता एक बार फिर खुलता हुआ नहीं दिख रहा है। कांग्रेस सिर्फ तीन सीटों पर टक्कर दे रही है।

आम आदमी पार्टी छोड़कर कांग्रेस में फिर वापसी करने वाली चांदनी चौक से विधायक अल्का लांबा 5886 वोटों से पीछे चल रही है। यहां पर आप उम्मीदवार प्रहलाद सिंह आगे चल रहे हैं। दिल्ली कैंट से कांग्रेस उम्मीदवार संदीप तंवर 303 वोटों से पीछे चल रहे हैं। इस सीट से बीजेपी के मनीष सिंह आगे चल रहे हैं। गांधी नगर सीट से अरविंदर सिंह लवली 3052 वोटों से पीछे चल रहे हैं। इस सीट पर आप उम्मीदवार नवीन चौधरी आगे चल रहे हैं।

2015 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 10 फीसदी वोट मिला था जो इस बार घटकर शुरुआती रुझानों में 4.40 रह गया है। यह पिछले विधानसभा चुनाव की तुलान में आधा है।

दिल्ली विधानसभा के लिए इस बार कुल 672 उम्मीदवार मैदान में थे जिसमें 593 पुरुष और 79 महिला उम्मीदवार हैं। तेईस विधानसभाओं में एक भी महिला उम्मीदवार नहीं है। इस बार के विधानसभा चुनाव के लिए कुल एक करोड 47 लाख 86 हजार 382 मतदाता थे। इनमें पुरुष मतदाता 81 लाख 50 हजार 236 और महिला 66 लाख 80 हजार 277 थी। पुरुष मतदाताओं में से 62.62 और महिलाओं में से 62.55 प्रतिशत ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। कुल 62.59 प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाले गये, जो 2015 में हुए विधानसभा चुनाव के 67.49 प्रतिशत की तुलना में करीब पांच प्रतिशत कम है। हालांकि पिछले वर्ष हुए आम चुनाव की तुलना में करीब दो प्रतिशत अधिक मतदाताओं ने वोट डाले।

मुख्य मुकाबला सत्तारुढ़ आम आदमी पार्टी (आप) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कांग्रेस के बीच है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल लगातार तीसरी बार नई दिल्ली से किस्मत आजमा रहे हैं। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी लगातार तीसरी बार पटपड़गज से चुनाव मैदान में हैं।