2021 तक बनेंगे 2 डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर, वित्‍त मंत्री ने कहा- आम आदमी को होगा फायदा

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का बजट शुक्रवार को पेश किया गया. इसे वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में पेश किया. पीएम मोदी ने इस बजट को देश की समृद्ध बनाने वाला बताया. वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण में डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर का भी जिक्र किया. उन्‍होंने कहा कि डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर (डीएफसी) से भारतीय रेलवे को रेल रूट पर अधिक भीड़ घटाने में सहायता मिलेगी. साथ ही इससे आम आदमी को भी फायदा होगा.

वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में अपने बजट भाषण में कनेक्टिविटी को अर्थव्‍यवस्‍था का जीवन बताया. उन्‍होंने कहा कि केंद्र सरकार सभी तरीके की कनेक्टिविटी को बढ़ावा दे रही है. बता दें कि डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कॉरपोरेशन इंडिया लिमिटेड (डीएफसीसीआईएल) की ओर से देश में दो डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर का निर्माण हो रहा है. इनमें वेस्‍टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर और ईस्‍टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर शामिल हैं. दोनों को ही 2021 तक पूरा किया जाना प्रस्‍तावित है.

बता दें कि वेस्‍टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर (डब्‍ल्‍यूडीएफसी) के मदार (अजमेर)-न्‍यू रेवाड़ी-किशनगढ़ बालावस सेक्‍शन के बीच ट्रेन को ट्रायल रन 30 दिसंबर, 2018 को पूरा किया गया था. यह सेक्‍शन 306 किमी का है. वहीं 15 अगस्‍त, 2018 को अटेली और फुलेरा के बीच के सेक्‍शन में पहली डबल स्‍टैक कंटेनर मालगाड़ी रेल का सफल परीक्षण किया गया था. मदार-पालनपुर सेक्‍शन का निर्माण 31 मार्च, 2020 तक होना प्रस्‍तावित है. वहीं पालनपुर से जेएनपीटी (मुंबई) सेक्‍शन का निर्माण कार्य 2021 तक पूरा होना प्रस्‍तावित है.

ईस्‍टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर (ईडीएफसी) के भदान-खुर्जा सेक्‍शन के पहली मालगाड़ी का ट्रायल रन 30 नवंबर, 2018 को किया गया. भदान-भाऊपुर सेक्‍शन का निर्माण कार्य 30 नवंबर, 2019 तक पूरा किया जाना है. वहीं भाऊपुर-मुगलसराय सेक्‍शन का निर्माण कार्य 31 दिसंबर, 2020 तक पूरा किया जाना है. मुगलसराय सोननगर सेक्‍शन का निर्माण दिसंबर 2020 तक पूरा होना है.