होली पर भी दिख रहा कोरोना वायरस का असर, बाजारों से चाइनीज आइटम नदारद

चीन से पूरी दुनिया में फैले कोरोना वायरस (Corona Virus) की वजह से लोग चीनी उत्पाद खरीदने से भी डर रहे हैं. होली के त्यौहार में हर साल बाजार में छाए रहने वाले चाइनीज आइटम इस बार गायब हैं. महाराष्ट्र के ठाणे में होली की वजह से बाजार तो रंगों से भरे हैं लेकिन कोरोना वायरस फैलने की वजह से बाजार पर काफी फर्क पड़ा है. चीन से आने वाली पिचकारियों, बच्चों के खिलौने और रंग बाजार में नहीं हैं, जो पिछले साल का स्टॉक है, डर की वजह से लोग उसे खरीदने से भी परहेज कर रहे हैं.

दुकान के मालिक भी केवल हर्बल कलर और गुलाल ही बेच रहे हैं. 9 मार्च को होलिका पूजन है और 10 मार्च को होली का रंग खेला जाएगा लेकिन कोरोना के खौफ से मार्केट में मंदी का माहौल है. होली के लिए केवल 3 दिन बचे हैं लेकिन ग्राहकों की भीड़ नहीं दिख रही है.

रंग विक्रेता हंसराज यादव ने बताया, ‘कोरोना वायरस की खबर से लोगों में डर का माहौल है. होली पर रंग खरीदने के लिए ग्राहकों में उत्साह नहीं है. हालांकि हमने गुलाल और देसी रंग ही बेचने के लिए रखे हैं. इस साल मुझे 20 से 25 हजार का घाटा हो सकता है. पिछले साल मैंने होली के रंग के लिए दोबारा ऑर्डर दिया था और माल बेचा गया था. अब इस साल यह हालात हैं कि, एक बार ऑर्डर के बावजूद भी रंग बिक नहीं रहे हैं.’

एक ग्राहक ने बताया, ‘कोरोना वायरस की चर्चा सोशल मीडिया पर है. लेकिन यहां तो देशी रंग मार्केट में बिक रहे हैं. चाइना का रंग है ही नहीं. मैंने देसी रंग मार्केट से खरीदे हैं. मैं होली मना रहा हूं. जिन्हें डर है वह नहीं मनाएंगे.’