सेना का जवानों को निर्देश, वॉट्सएप पर रहो होशियार, सूचना लीक हुईं तो होगी सख्त कार्रवाई

सेना ने सोशल मीडिया पर सक्रिय अपने सैनिकों और अफसरों को नए निर्देश दिया है. वॉट्सएप ग्रुप में शामिल होने में सावधानी रखने के निर्देश देते हुए सेना मुख्यालय ने चेतावनी दी है कि किसी तरह की सूचना लीक होने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. सैनिकों को ख़ासतौर पर ऐसे वॉट्सएप ग्रुप से बाहर आने को कहा गया है, जिसके सारे सदस्यों को पहचानते न हों.

हाल ही में जारी हुआ ये निर्देश सेना की अलग-अलग फॉर्मेशनों में भेज दिया गया है. सेना के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि ये क़दम हाल ही में हुई कई घटनाओं के बाद उठाया गया है, जिसमें वॉट्सएप ग्रुप्स के ज़रिए सैनिकों से सेना के बारे में संवेदनशील जानकारी हासिल कर ली गई.”

पाकिस्तान में बैठी एजेंसियां भारतीय सेना के बारे में हर जानकारी एकत्र करने के लिए कोशिशें कर रही हैं. वॉट्सएप ग्रुप में शामिल किसी सैनिक या अधिकारी से जानकारियां एकत्र करना सबसे आसान है. ख़तरा उन वॉट्सएप ग्रुप्स में ज्यादा है, जिसमें सेना के अलावा दूसरे लोग भी शामिल हों. इसलिए केवल उन्हीं वॉट्सएप ग्रुप्स में रहना ज्यादा सुरक्षित है, जिसके हर सदस्य से आप व्यक्तिगत रूप से परिचित हों.”

सेना के एक अधिकारी ने कहा, सेना में पिछले दिनों सैनिकों या अधिकारियों के सोशल मीडिया के ज़रिए हनी ट्रैप करने और उनसे सेना की जानकारियां एकत्र करने की कई घटनाएं हुई हैं. इन घटनाओं में सामान्य सैनिक से लेकर उच्च पद पर तैनात अधिकारी भी शामिल थे, जिन्हें फर्जी सोशल मीडिया एकाउंट्स के ज़रिए हनी ट्रैप किया गया. फ़िर ब्लैकमेल किया गया. ऐसे मामलों में कई बार सैनिकों को कड़ी कार्रवाई का सामना करना पड़ा. लेकिन वॉट्सएप ग्रुप में शामिल किसी अनजान शख्स के ज़रिए किसी दूसरे सदस्य को जानकारियां हासिल करने के लिए इस्तेमाल करना बहुत आसान हो गया है, इसीलिए ज्यादा ख़तरनाक है.

ऐसे सदस्य को किसी एजेंसी से जुड़ा सदस्य फोन को घोस्ट मास्क करके सारा डाटा चुरा सकता है.