मां ने 9 महीने की बच्ची को फेंका कुंए में, हालत गंभीर

रांची में मां द्वारा कथित रूप से कुंए में फेंक दी गई 9 महीने की बच्ची को यहां लाया गया। वह जिंदगी के लिए संघर्ष कर रही है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उनके अनुसार इस बच्ची की हालत ‘नाजुक’ है तथा उसे सर गंगाराम अस्पताल (एसजीआरएच) के बाल सघन चिकित्सा कक्ष में ‘जीवनरक्षक प्रणाली’ पर रखा गया है।

अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘बच्ची को रांची से दिल्ली लाया गया और उसे नाजुक हालत में हरित गलियारे के मार्फत एसजीआरएच ले जाया गया।’ दिल्ली यातायात पुलिस के अनुसार उसकी जान बचाने के लिए इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के टर्मिनल 1 -डी से अस्पताल तक 12 किलोमीटर का हरित गलियारा तैयार किया गया ताकि 12 किलोमीटर की दूरी 13 मिनट में कवर कर ली जाए।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘बच्ची को तत्काल एंबुलेंस में ले जाया गया। काफिला शाम पांच बजकर दस मिनट पर चला और 13 मिनट बाद पांच बजकर 23 मिनट पर अस्पताल पहुंच गया, जबकि यातायात अधिक होने के दौरान करीब 45 मिनट लगता।’ एसजीआरएच के सूत्रों ने बच्ची के साथ आए लोगों के हवाले से बताया कि उसे उसकी मां ने एक फरवरी की दोपहर कुएं में फेंक दिया था। वह प्रसव के बाद अवसाद से गुजर रही थी।

सूत्र के अनुसार, ‘बच्ची को तत्काल वहां से उठाकर एक निकटतम अस्पताल में ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। लेकिन बाद में उसे एक बड़े अस्पताल में ले जाया गया जहां उस पर सीपीआर (सांस संबंधी विशेष प्रक्रिया) की गयी और उसकी जान लौट आई।’ अस्पताल में बाल आपात चिकित्सा और आईसीयू के निदेशक डा अनिल सचदेवा ने बताया, ‘बच्ची की हालत गंभीर है और उसे आईसीयू में वेंटिलेटर पर रखा गया है।