राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए 22 बच्चों का चयन, दो जम्मू कश्मीर के

इस साल राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के लिए जो बच्चे चुने गये हैं उनमें जम्मू-कश्मीर के दो किशोर भी शामिल हैं. इन्हीं में कर्नाटक का एक ऐसा लड़का भी शामिल है जिसने राज्य में बाढ़ के दौरान एक एंबुलेंस को रास्ता दिखाया था. अधिकारियों ने यह जानकारी दी.

भारतीय बाल कल्याण परिषद (आईसीसीडब्ल्यू) ने मंगलवार को वीरता पुरस्कार के लिए 10 लड़कियों और 12 लड़कों के नामों की घोषणा की. अधिकारियों ने बताया कि केरल के कोझिकोड के 16 वर्षीय मुहम्मद मुहसीन को मरणोपरांत आईसीसीडब्ल्यू अभिमन्यु पुरस्कार के लिए चुना गया है. उसने पिछले साल अप्रैल में समुद्र में मौसम खराब हो जाने पर अपने तीन साथियों की जान बचायी थी, लेकिन इसी क्रम में उसकी मृत्यु हो गयी थी.

कुपवाड़ा के रहने वाले सरताज मोहिदन (16) और बडगाम के मुदासिर अशरफ (19) कश्मीर में 2019 में साहसिक कारनामे को लेकर वीरता पुरस्कार के लिए चुने गये हैं. अधिकारियों के मुताबिक, कर्नाटक के वेंकेटेश को भी यह पुरस्कार दिया जायेगा. उसने पिछले साल अगस्त में बाढ़ के दौरान एक एंबुलेंस को रास्ता दिखाया था. एंबुलेंस में एक व्यक्ति का शव और उसके रिश्तेदार थे.