भारतीय वैज्ञानिकों को मिली सफलता, भारत में सामने आई Coronavirus की पहली तस्वीर

कोरोना वायरस की बीमारी के इलाज की गैर मौजूदगी के बीच भारत से एक संतोषजनक खबर आई है. भारतीय वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस की तस्वीर माइक्रोस्कोप में कैद करने में सफलता हासिल कर ली है. उनका दावा है कि कोरोना वायरस से जंग के खिलाफ इससे बहुत फायदा मिल सकता है.

भारतीय वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस की तस्वीर कैद की

कोरोना वायरस ने दुनिया के बहुत सारे मुल्कों को अपनी चपेट में ले लिया है. संक्रमण के बढ़ते मरीजों की संख्या के आगे सुरक्षात्मक उपाय नाकाफी साबित हो रहे हैं. मेडिकल उपकरणों की कमी भी जंग से लड़ने में बाधा बन रही है. मौत के बढ़ते आंकड़ों के बीच वैज्ञानिक जल्द से जल्द इसका इलाज ढूंढने में व्यस्त हैं. दवा या वैक्सीन पर हर जगह शोध कर बीमारी पर काबू पाने की कोशिश जारी है. ऐसे में भारतीय वैज्ञानिकों ने एक अनोखा काम किया है. उन्होंने कोरोना वायरस की तस्वीर माइक्रोस्कोप में कैद कर सबको चकित कर दिया है. उनका दावा है कि कोरोना वायरस की ये पहली तस्वीर है.

क्या भारत कर पाएगा वैक्सीन या दवा का इजाद ?

कोरोना वायरस की पहली तस्वीर जारी होने के बाद भारत में वैक्सीन या दवा के शोध पर कामयाबी मिलने की उम्मीद जग गई है. तस्वीर के आधार पर वैज्ञानिक आगे का कठिन काम अंजाम दे सकते हैं. फिलहाल बता जा रहा है कि वैज्ञानिकों ने इलाज के लिए रिसर्च का काम शुरू भी कर दिया है. हालांकि इससे पहले इस बात का दावा किया जा चुका है कि फ्रांस ने खतरनाक वायरस की नई दवा खोज ली है. फ्रांस के इंस्टीट्यूट हॉस्पीटल यूनिवर्सिटी के संक्रमण बीमारियों के विशेषज्ञ प्रोफेसर डेडायर का दावा है कि उन्होंने नई दवा का कामयाब परीक्षण किया है. शुरुआती ट्रायल में इस बात का पता चला कि दवा से 2 दिन के अंदर संक्रमण को गंभीर स्थिति तक नहीं पहुंचने दिया गया.