आतंकियों को फंडिंग के मामले में NIA को मिली आरोपी मोहम्‍मद आरिफ की रिमांड

 आतंकियों को फंडिंग के मामले में पटियाला हाउस की स्‍पेशल एनआईए कोर्ट में आरोपी मोहम्‍मद आरिफ गुलाम को पेश किया गया. अदालत ने एनआईए का पक्ष सुनने के बाद आरोपी मोहम्‍मद आरिफ मोहम्‍मद को पांच दिन की रिमांड पर भेजा है.

उल्‍लेखनीय है कि गुजरात के वलसाड का रहने वाला मोहम्‍मद आरिफ गुलाम के खिलाफ फलाह-ए-इसानियत (FIF) टेरर फंडिंग मामले में एनआईए ने खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी किया था. मोहम्मद आरिफ गिरफ्तारी के डर से दुबई में छिपा हुआ था.

 

एनआईए के प्रयासों के बाद यूएई प्रशासन ने आरोपी मोहम्‍मद आरिफ गुलाम को भारत डिपोर्ट किया था. बुधवार शाम दिल्‍ली के आईजीआई एयरपोर्ट पहुंचते ही आरोपी मोहम्‍मद आरिफ को एनआईए ने गिरफ्तार कर लिया था. गुरुवार सुबह एआईए ने आरोपी को पटियाला हाउस की स्‍पेशल एनआईए कोर्ट में पेश किया गया.

स्‍पेशल एनआईए कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई कके बाद आरोपी मोहम्‍मद आरिफ को पांच दिनों की रिमांड पर एनआईए के सुपुर्द कर दिया. एनआईए के वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार, आरोपी मोहम्‍मद आरिफ मूल रूप से गुजरात के वलसाड़ का रहने वाला है. आरोपी फलाह-ए-इंसानियत नामक फाउंडेशन के जरिए आतंकियों को आर्थिक मदद देता था.

 

उन्‍होंने बताया कि आतंकियों को आर्थिक मदद देने के मामले में इस फाउंडेशन का नाम आने के बाद आरोपी मोहम्‍मद आरिफ फरार हो गया था. वह अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए लंबे समय से दुबई में छिपा हुआ था. उन्‍होंने बताया कि एनआईए ने आरोपी मोहम्‍मद आरिफ के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी कर इमीग्रेशन विभाग को सचेत किया था.