आतंकवाद मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा, भारत-अमेरिका के संबंध और मजूबत होंगे: PM मोदी

जापान के ओसाका में चल रहे जी-20 शिखर सम्‍मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के बीच द्विपक्षीय वार्ता हुई. इस दौरान पीएम मोदी ने ट्रंप के साथ ईरान, 5जी, द्विपक्षीय संबंधों और रक्षा मामलों पर चर्चा की. वहीं डोनाल्‍ड ट्रंप ने पीएम मोदी को लोकसभा चुनाव में प्रचंड जीत की बधाई दी. पीएम मोदी ने उनको शुक्रिया कहा. उन्‍होंने इस दौरान कहा कि भारत और अमेरिका के संबंध और मजूबत होंगे, हम लोकतंत्र और शांति के लिए प्रतिबद्ध हैं.

पीएम मोदी ने ब्रिक्‍स देशों की बैठक में कहा कि आतंकवाद आज मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा है. यह सिर्फ मासूमों की जान ही नहीं लेता बल्कि यह आर्थिक विकास और सामाजिक शांति पर भी नकारात्‍मक प्रभाव डालता है. हमें आतंकवाद की मदद करने वाले सभी माध्‍यमों को रोकने की जरूरत है. जापान, अमरिका और इंडिया का मतलब JAI है. मेक इन इंडिया के मंत्र के साथ भारत, अमेरिका और जापान आगे बढ़ रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि भारत का मंत्र है सबका साथ, सबका विकास.

पीएम मोदी ने ब्रिक्‍स देशों की बैठक में दुनिया के सामने तीन अहम चुनौतियों का भी जिक्र किया. उन्‍होंने पहली चुनौती बताई विश्‍व की अर्थव्‍यवस्‍था में मंदी और अनिश्चितता. उन्‍होंने कहा कि नियमों पर आधारित अंतरराष्‍ट्रीय व्‍यापार व्‍यवस्‍था पर एकतरफा निर्णय और प्रतिद्वंद्विता हावी हो रहे हैं. उन्‍होंने कहा कि दूसरी बड़ी चुनौती है विकास और प्रगति को समावेशी और सस्‍टेनेबल बनाना. पीएम मोदी ने तीसरी चुनौती आतंकवाद को बताया. उन्‍होंने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ एकजुटता होनी चाहिए. उन्‍होंने 5 बड़ी सुझाव भी दिए.