अलगाववादी भारत विरोधी भावनाएं भड़काने के लिए हर मौके का इस्तेमाल कर रहे हैं: राजनाथ सिंह

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को जम्मू और कश्मीर के अलगाववादियों पर निशाना साधते हुए कहा कि वे भारत विरोधी भावनाएं भड़काने और लोगों को उकसाने के लिए हरसंभव स्थिति का दोहन करते हैं.

राजनाथ सिंह ने गुजरात में सरदार वल्लभभाई पटेल की सबसे ऊंची प्रतिमा के स्थल पर पुलिस महानिदेशकों और पुलिस महानिरीक्षकों के वार्षिक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा,‘अलगाववादी लोगों को उत्तेजित करने, भारत विरोधी भावनाएं भड़काने के लिए हरसंभव स्थिति का दोहन करते हैं जिससे कानून व्यवस्था की स्थिति पैदा होती है. आतंकवादियों और अलगाववादियों को सीमा पार से पैसा मिलना चिंता का विषय है.’

राजनाथ सिंह ने कहा,‘आतंकवादियों की बड़ी संख्या में घुसपैठ की कोशिश, समय समय पर उनके हमले और स्थानीय स्तर पर रंगरुटों की भर्ती जारी है. पाकिस्तान और उसके कब्जे वाले कश्मीर में आतंकवाद के बुनियादी ढांचे, प्रशिक्षण शिविर, लांचिंग पैड और संवाद नियंत्रण केंद्र बने हुए हैं.’

और क्या बोले राजनाथ सिंह ?
गृह मंत्री ने सुरक्षा प्रतिष्ठानों से पंजाब में आतंकवाद के फिर से सिर उठाने के प्रयासों पर अंकुश लगाने का आह्वान किया. उन्होंने कहा कि पंजाब में हाल में आतंकवादी घटनाओं और संबंधित पाबंदियां इस बात की ओर संकेत करती हैं कि पाकिस्तान के सत्ता प्रतिष्ठान और वहां के सिख चरमपंथी तत्व विदेशों खासकर यूरोप और अमेरिका में रह रहे सिख चरमपंथी संगठनों के सक्रिय सहयोग से पंजाब में आतंकवाद को बहाल करने की कोशिश कर रहे हैं.

उन्होंने कहा,‘पाकिस्तान का सत्ता प्रतिष्ठान भारतीय हितों को निशाना बनाने के लिए सिख चरमपंथी संगठनों, वहां के इस्लामिक संगठनों और कश्मीर केंद्रित आतंकवादी संगठनों के बीच साठगांठ कायम करने की कोशिश कर रहा है.’

राजनाथ सिंह ने कहा कि मुख्य भूमि से आतंकवाद को उखाड़ फेंका गया है और खुफिया ब्यूरो के साथ समन्वय से कानून प्रवर्तन एजेंसियां इस्लामिक स्टेट के दुष्प्रचार की लहर को विफल करने में कामयाब रही हैं.