कश्मीर राजमार्ग पर एक तरफा यातायात

लद्दाख क्षेत्र को कश्मीर से जोड़ने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग और एेतिहासिक मुगल रोड मंगलवार को हिमपात होने के कारण वाहनों की आवाजाही के लिए फिर से बंद कर दिया गया।
इस वर्ष, हालांकि कम हिमपात होने के कारण उत्तरी कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास और निकट के कई दूर-दराज के गांवों की ओर जाने वाली सड़कें अब तक खुली हैं जो सर्दियों में अधिकांश समय बंद रहती हैं।
इस बीच 300 किलोमीटर लम्बे श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर कुछ रुकावट के साथ केवल एक ओर से यातायात जारी रहेगा। कश्मीर घाटी को देश के बाकी हिस्सों से जोड़ने वाला यह एकमात्र राजमार्ग है।
आधिकारिक सूत्रों ने यूनीवार्ता को बताया विशेषकर जोजिला दर्रा, मीनमर्ग और जीरो पाॅइंट पर सड़कों पर फिसलन के कारण वाहनों के रोकने से लद्दाख क्षेत्र कश्मीर घाटी से कट गया।
राजमार्ग पर यातायात फिर से शुरू न होने की संभावना के कारण अधिकारियों ने जम्मू-श्रीनगर से करगिल के लिए हेलीकॉप्टर सेवा शुरू करने की घोषणा की है।
दक्षिणी कश्मीर में शोपियां को जम्मू क्षेत्र के राजौरी और पुंछ से जोड़ने वाला ऐतिहासिक मुगल रोड भी हिमपात के बाद बर्फ जम जाने और फिसलन भरी सड़क की स्थिति के कारण बंद रहा। पीर-की-गली के दोनों ओर के वरिष्ठ प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों ने अपनी रिपोर्ट में कश्मीर के संभागीय आयुक्त को सर्दियों में छह महीनों के लिए सड़क को बंद रखने की सिफारिश की है।
श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर मंगलवार को एक ओर से वाहनों को चलते हुए देखा गया। जम्मू से श्रीनगर की ओर के आज हल्के वाहनों और भारी वाहनों को जाते हुए देखा गया। उन्होंने कहा कि हल्के वाहनों को सुबह पांच से दो बजे तक चलने की अनुमति दी गयी है तथा भारी वाहनों को अपराह्न एक बजे से शाम सात बजे तक चलने की अनुमति दी गयी है। इस राजमार्ग पर विपरीत दिशा से वाहनों को आने की इजाजत नहीं दी गयी है।
उप्रेती.श्रवण, संतोष