Corona virus: सर्दी-जुकाम और बुखार है तो तुरंत कराएं जांच

कोरोना वायरस को लेकर विशेष सतर्कता बरती जा रही है। अस्पतालों की ओपीडी में आने वाले निमोनिया और सीने में जकड़न की शिकायत वाले मरीजों से हिस्ट्री ली जा रही है। उधर, सीएमओ की टीम ने भी अस्पतालों का जायजा लिया है। एयरपोर्ट के अधिकारियों से भी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी सम्पर्क में हैं। स्टेशन और एयरपोर्ट पर हेल्प डेस्क क्रियाशील किया गया है।

सीएमओ डॉ. अशोक शुक्ला के मुताबिक कोरोना को लेकर किसी तरह घबराने की जरूरत नहीं है। अस्पतालों से इंतजाम करने को कहा है। एसीएमओ स्तर के अधिकारियों को रिपोर्ट लेने के लिए लगाया गया है। एपिडिमॉलोजिस्ट नजर भी रख रहे।

छुट्टी मनाकर लौटे लोगों को सर्दी जुकाम अधिक : डॉक्टरों के मुताबिक बड़ी संख्या में लोग दुनिया के विभिन्न हिस्सों में सर्दियों की छुट्टी मनाकर लौटे हैं। ऐसे लोगों को अगर निमोनिया या सर्दी जुकाम है तो उन्हें जरूर एहतियात बरतना चाहिए क्योंकि बाहर से आया वायरस जटिल मिल रहा है। उस पर दवाएं बेअसर हो रही हैं। दक्षिण भारत से लौटे एक डॉक्टर खुद सर्दी जुकाम से पीड़ित हो गए। उन्हें एंटी फ्लू खाना पड़ा। हैलट ओपीडी में मरीजों को देख रहे डॉ. प्रेम सिंह का कहना है कि किसी भी तरह के सर्दी जुकाम से सतर्क रहना चाहिए। घर के किसी सदस्य को अगर सर्दी जुकाम छींक या निमोनिया की शिकायत हो तो अस्पताल लाएं और कोशिश करें मरीज को मॉस्क लगा दें। वैसे भी भीड़भाड़ वाली जगहों पर संक्रमण बढ़ने की संभावना रहती है।

हैलट एन-95 मास्क नहीं, डॉक्टर परेशान हैलट के डॉक्टरों के लिए एन-95 मॉस्क उपलब्ध नहीं कराए गए हैं। डॉक्टरों का कहना है कि सामान्य मॉस्क से वह लोग काम चला रहे हैं, सामान्य मास्क किसी तरह वायरस संक्रमण से बचाने को कारगर नहीं है। डॉक्टरों के मुताबिक वैसे भी रोजाना ओपीडी में भारी भीड़ हो रही है। सामान्य जुकाम से बचने के लिए एन-95 मॉस्क की जरूरत है मगर वह उपलब्ध नहीं है। प्रमुख अधीक्षक प्रो. आरके मौर्या के मुताबिक स्टोर इंचार्ज से मॉस्क उपलब्ध कराने की बात कही गई है। अगर उपलब्ध नहीं है तो खरीदारी की जाएगी।

वायरल संक्रमण से बचने के उपाय: डॉ. प्रेम सिंह के मुताबिक इस समय वायरल संक्रमण लोगों को अधिक हो रहा है। जुकाम होने पर गुनगुना पानी पिएं। बच्चों को भी निमोनिया से बचाने के लिए उन्हें गर्म रखें।