जम्मू-कश्मीर: विस्थापित पंडितों ने गलवान घाटी में शहीद हुए सैनिकों को दी श्रद्धांजलि

पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सेना के साथ हुए खूनी संघर्ष में शहीद हुए भारतीय सेना के 20 जवानो को जम्मू में भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई. जम्मू में कश्मीर घाटी में विस्थापित हुए कश्मीरी पंडितो ने इन शहीदों की शहादत के 10वें दिन इनकी शहादत को सलाम किया.

15 और 16 जून की रात पूर्वी लद्दाख की गलवन घाटी में शहीद हुए भारतीय सेना के 20 जवानो को उनकी शहादत के 10वें दिन जम्मू में कश्मीरी पंडित समुदाय के लोगो ने श्रद्धा सुमन अर्पित किए. कश्मीरी रीति रिवाज के मुताबिक किसी की मृत्यु के बाद उसके 10वें दिन मृतक की आत्मा की शांति के लिए उन्हें श्रद्धांजलि दी जाती है.

इसी सिलसिले में नब्बे के दशक में आतंकवाद के चलते घाटी से विस्थापित हुए कश्मीरी पंडित समाज के लोगो ने जम्मू की रणवीर नहर के किनारे इन शहीदों को याद किया. लद्दाख में चीन के दुःसाहस पर भारतीय सेना के करारे जवाब के दौरान सेना के वीर बहादुरों के इस सर्वोच्य बलिदान को नमन करते हुए कश्मीरी पंडित समुदाय के इन लोगो ने भारत के पीएम नरेंद्र मोदी के चीन के खिलाफ अपनाये गए कड़े रुख की भी तारीफ की.

गलवान घाटी में एक कर्नल समेत 20 भारतीय जवान हुए थे शहीद 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून की रात हुई खूनी झड़प में एक कर्नल समेत भारत के कुल 20 जवान शहीद हुए थे. इस झड़प में चीन के भी 40 से ज्यादा सैनिक हताहत हुए थे.