जम्मू-कश्मीर में लगेंगे दो लाख स्मार्ट मीटर

बिजली चोरी रोकने व ट्रांसमिशन घाटे को कम करने के लिए केंद्र प्रायोजित योजना के तहत जम्मू-कश्मीर में दो लाख स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे। पहले चरण में श्रीनगर व जम्मू में एक-एक लाख मीटर लगेंगे। प्रधानमंत्री डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत जुलाई से स्मार्ट मीटर लगाने की प्रक्रिया आरंभ होगी। जिस एजेंसी से अनुबंध किया है, उसने 1.15 लाख मीटर हासिल कर लिए हैं। शेष 85 हजार मीटरों की खरीद के लिए जरूरी फंड जारी करने का मुद्दा केंद्र सरकार के समक्ष रखा है। यह जानकारी पावर डेवलपमेंट डिपार्टमेंट के प्रमुख सचिव रोहित कंसल की अध्यक्षता में हुई एक उच्च स्तरीय बैठक में दी गई। बैठक में बताया गया कि विभाग के नुकसान का मुख्य कारण यह है कि यहां उपभोक्ताओं के कनेक्शन बिना मीटर के हैं। जम्मू-कश्मीर में 48 फीसद मीटरिग है। यह आंकड़ा हालांकि राष्ट्रीय स्तर के 18.6 फीसद मीटरिग से अधिक है। जम्मू में करीब 21 लाख उपभोक्ता हैं। 48 फीसद कनेक्शन मीटर से जुड़े हैं। जिन कनेक्शन पर मीटर नहीं हैं, उन उपभोक्ताओं से फिक्स फ्लैट किराया वसूला जाता है जोकि घाटे का मुख्य कारण है। आर्थिक पैकेज का लाभ उठाने की अपील : जम्मू पावर डिस्ट्रीब्यूशन कारपोरेशन लिमिटेड व कश्मीर पावर डिस्ट्रीब्यूशन कारपोरेशन लिमिटेड के अधिकारियों को आत्म निर्भर भारत अभियान के तहत मिले आर्थिक पैकेज का लाभ उठाने की अपील करते हुए कंसल ने कहा कि इसके तहत दोनों कारपोरेशन को 90 हजार करोड़ रुपये मिलेंगे। कंसल ने कहा कि दोनों कॉरपोरेशन से इस राशि से अपनी देनदारी चुकाने के साथ ढांचा बेहतर बनाने की दिशा में कदम उठाए। दोनों कॉरपोरेशन के आइटी ढांचे के उचित रखरखाव पर कंसल ने विस्तृत योजना बोर्ड आफ डायरेक्टर्स के सामने रखने के निर्देश दिए। उन्होंने काल सेंटरों व हेल्पलाइन केंद्रों की सेवाएं भी बेहतर करने का निर्देश दिया ताकि उपभोक्ताओं की परेशानियों को कम किया जा सके। गर्मियों में बिजली की सप्लाई सुचारु रखने के लिए जम्मू पावर डिस्ट्रीब्यूशन कॉरपोरेशन को खराब होने वाले ट्रांसफार्मरों की जल्द मरम्मत का प्रबंध करने के भी निर्देश दिए।