PM मोदी ने किया फोनी प्रभावित ओडिशा का दौरा, 1000 करोड़ रुपये की अतिरिक्‍त मदद का ऐलान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को ओडिशा में चक्रवात फोनी के कारण हुई क्षति का आकलन करने के लिए हवाई सर्वेक्षण किया. पीएम मोदी ने हवाई दौरे के बाद ओडिशा के हालात पर मुख्‍यमंत्री नवीन पटनायक और शीर्ष अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की. उन्‍होंने केंद्र सरकार की ओर से आपदा प्रभावित ओडिशा को 1000 करोड़ रुपये अतिरिक्‍त सहायता राशि देने का ऐलान किया. इससे पहले ओडिशा को केंद्र सरकार की ओर से 381 करोड़ रुपये बतौर सहायता राशि दी जा चुकी है.

पीएम मोदी ने इस दौरान मुख्‍यमंत्री नवीन पटनायक की तारीफ भी की. उन्‍होंने कहा, ‘नवीन बाबू ने बहुत अच्‍छा प्‍लान किया है. केंद्र सरकार उनके साथ रह करके सभी चीजों को आगे बढ़ा पाएगी. पीएमओ की टीम भी आई है और आज यहां रुकेगी.’ उन्‍होंने कहा कि ओडिशा के नागरिकों को धन्यवाद है. उन्होंने राज्य सरकार की बात को माना. 12 लाख लोगों को सुरक्षित स्‍थान पर शिफ्ट करना बहुत बड़ी बात है. मृतकों के परिजनों के लिए 2 लाख रुपये दिए जाएंगे और घायलों के इलाज की समुचित व्यवस्था होगी.

ओडिशा के आपदा प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण के दौरान पीएम मोदी के साथ राज्यपाल गणेशी लाल और मुख्यमंत्री नवीन पटनायक भी मौजूद रहे. पीएमओ की ओर से जानकारी दी गई है कि पीएम मोदी केंद्र सरकार की ओर से पश्चिम बंगाल के शीर्ष अफसरों के साथ फोनी के बाद के हालात पर समीक्षा बैठक करना चाह रहे थे. इसके लिए पश्चिम बंगाल सरकार को खत भी लिखा गया था. लेकिन राज्‍य सरकार ने सभी अफसरों के चुनाव ड्यूटी में तैनात होने के कारण समीक्षा बैठक से इनकार कर दिया.

पीएम मोदी यहां पहुंचने के बाद चक्रवात से सर्वाधिक प्रभावित पुरी जिले और अन्य प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लेने के लिए सीधे अपने हेलीकॉप्टर में गए. ओडिशा के तट पर पिछले शुक्रवार पहुंचे चक्रवात ‘फोनी’ के कारण कम से कम 34 लोगों की मौत हो गई और सैकड़ों लोग जल संकट एवं बिजली संकट से जूझ रहे हैं. प्रधानमंत्री ने शनिवार को मुख्यमंत्री से फोन पर भी बात करके फोनी के बाद की स्थिति पर चर्चा की थी और केंद्र से लगातार समर्थन का भरोसा दिलाया था.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ट्वीट किया था, ‘‘कल सुबह ओडिशा जाऊंगा, जहां मैं चक्रवात फोनी के कारण पैदा हुई स्थिति की समीक्षा करूंगा और शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक करूंगा. केंद्र जारी राहत एवं बचाव कार्यों में हर संभव सहायता मुहैया कराने को लेकर प्रतिबद्ध है.’’