कश्मीर: बांदीपोरा दुष्कर्म मामले में आरोपपत्र दाखिल

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने शनिवार को इस महीने की शुरुआत में बांदीपोराजिले में एक मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म के आरोपी युवक के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया। एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘बांदीपोरा के प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश की विशेष अदालत में आरोपपत्र पेश किया गया। इसे वारदात होने की तारीख से 17 दिनों के भीतर पेश किया गया।’

बांदीपोरा जिले में 3 साल की मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म 8 मई को हुआ था। इस घटना पर आक्रोश इस कदर भड़का कि घाटी के हर शहर और कस्बे में छात्रों व अन्य लोगों ने जोरदार प्रदर्शन किया था। पुलिस ने जल्द छानबीन पूरी करने के लिए एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया, ताकि आरोपी ताहिर अहमद मीर को जल्द से जल्द न्याय के कटघरे में लाया जा सके। मीर पर यौनाचार से बाल संरक्षण (पॉक्सो) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। इस अधिनियम के तहत दोषी की अधिकतम सजा उम्रकैद है।

पुलिस ने मीर के परिवार द्वारा उसे नाबालिग साबित करने के लिए उसके फर्जी जन्म प्रमाणपत्र का इस्तेमाल किए जाने की कोशिशों को भी विफल कर दिया। जिस प्राइवेट स्कूल के प्रिंसिपल ने प्रमाणपत्र जारी किया था, उसे पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। चिकित्सकों के एक बोर्ड ने आरोपी की शारीरिक जांच की। उसने 12वीं कक्षा की परीक्षा पास करने के बाद तीन साल के डिग्री कोर्स में दाखिला लिया था और वह प्रथम वर्ष का छात्र है। उसकी उम्र लगभग 20 वर्ष आंकी गई। इस बीच, जम्मू एवं कश्मीर राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण ने दुष्कर्म पीड़िता बच्ची के लिए अंतरिम राहत के रूप में एक लाख रुपये जारी किए हैं।