अयोध्या में धर्मसभा की तैयारी तेज़, 2000 बसों से अयोध्या लाए जाएंगे रामभक्त

अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की 25 नवंबर को होने वाली धर्मसभा के लिए पूरे यूपी से करीब 2000 बसों से रामभक्तों को अयोध्या लेकर आएगा. इसके साथ ही करीब 4000 चार पहिया वाहनों से रामभक्त  धर्मसभा के लिए आएंगे, जिसमे वृद्ध रामभक्तों और वीएचपी कार्यकर्ताओं के लिए अलग से इंतज़ाम किया गया है. इतना ही नहीं वीएचपी इस बात की भी उम्मीद जता रहा है की 5 हज़ार से लेकर 10 हज़ार तक दोपहिया वाहनों से आएंगे. रामभक्त अयोध्या 25 नवंबर की धर्मसभा में हिस्सा लेंगे.

वीएचपी के मीडिया प्रभारी शरद शर्मा के अनुसार तैयारी जोरों पर है और धर्मसभा के लिए करीब 2 लाख रामभक्तों की भीड़ जुटाने की कवायद की जा रही है. अयोध्या में रामभक्तों की भीड़ जुटाने के लिए वीएचपी पूरे यूपी में जिलेवार कार्यक्रम चला रही है, जिसके तहत स्थानीय स्तर पर प्रयास किये जा रहे है.

 

राम मंदिर निर्माण के लिए जनजागरण के तहत अधिक भीड़ जुटाने में लगी वीएचपी 23 नवंबर को लखनऊ के 23 प्रखंडों में रैलियां निकालेगी. राजधानी को 23 प्रखंडों में बनाया गया है और प्रखंड अध्यक्ष और संयोजक इन टोलियों का नेतृत्व करेंगे . 23 की शाम को शाम 4 बजे से सब अपने अपने प्रखंडों में लोगों से संपर्क करके उनको अयोध्या चलने का आह्वान करेंगे.

वीएचपी का मकसद 25 नवंबर की धर्मसभा में ज्यादा से ज्यादा भीड़ जुटाने का है.गौरतलब है की 25 नवंबर को बड़ा भक्त महल की बगिया में वीएचपी की  राम मंदिर निर्माण को लेकर एक  बड़ी धर्मसभा है जिसमे वीएचपी के लोगो के साथ साधू संतो का भी जमावड़ा होगा.पूरे देश की नज़र वीएचपी की इस धर्मसभा पर होगी और वीएचपी कभी भी ये नहीं चाहेगा की उनका ये कार्यक्रम कमजोर हो इसीलिए वीएचपी ओध्या में ज्यादा से ज्यादा भीड़ जुटाने की कोशिश कर रहा है.

वीएचपी इसी के साथ राम मंदिर निर्माण को लेकर अलग लग जिलों में गोष्ठी के माध्यम से भी भीड़ जुटाने की कवायद कर रहा है.वीएचपी की कोशिश ये है की रामभक्त अयोध्या में  24 की रात तक पहुंच जाए ताकि 25  नवंबर को होने वाली धर्मसभा में बगिया पूरी तरह से भर जाए और जो सन्देश वीएचपी देना चाहती है वो उसमे कामयाब हो.