जम्मू कश्मीर: ट्रकों के लिए बना रैपिड कॉरिडोर ताकि लॉकडाउन में ना हो किसी भी सामान की कमी

लॉकडाउन के दौरान जम्मू कश्मीर में ज़रुरत की सामग्री की कमी न हो इसके लिए प्रदेश प्रशासन ने व्यापक कदम उठाये हैं. प्रदेश के एंट्री प्वाइंट लखनपुर से अब तक ज़रुरत की सामग्री लेकर 6000 से अधिक ट्रक जम्मू कश्मीर में प्रवेश कर चुके हैं जिनकी सहायता और कोरोना पर निगनी के लिए यहां 3 मेडिकल कैंप और इतने ही पास काउंटर बनाये गए हैं.
जम्मू कश्मीर में आने से पहले जो ट्रक पंजाब और जम्मू कश्मीर के बॉर्डर सील हो जाने के कारण फंस जाते थे अब उन्हें इस बॉर्डर से निकासी में कुछ मिनट ही लग रहे हैं. दरअसल, जम्मू कश्मीर प्रशासन ने पड़ोसी राज्यों से ज़रूरी सामान लेकर आ रहे इन ट्रक्स की राज्य में बिना रुकावट कठुआ के लखनपुर से एंट्री के लिए एक समन्वय कमिटी बनाई है जिससे सामान से भरे इन ट्रक्स को जम्मू कश्मीर में आना बेहद आसान हो गया है. पड़ोसी राज्यों से जम्मू कश्मीर में ज़रूरी सामान लेकर रोज़ाना ऐसे करीब 800 से अधिक ट्रक अब प्रदेश पहुंच रहे हैं. इन ट्रकों में फल, सब्ज़ियां, राशन, दूध, अंडे, दवा, एलपीजी और पेट्रोलियम उत्पाद शामिल हैं जो लखनपुर से जम्मू और फिर कश्मीर के लिए रवाना किये जा रहे हैं.

कठुआ में तैनात मजिस्ट्रेट एसेंशियल सप्लाइज अरुण मन्हास ने एबीपी न्यूज़ को बताया कि अब तक ज़रूरी सामान लिए 6000 से अधिक ट्रक लखनपुर पॉइंट से प्रदेश में आ चुके हैं. उन्होंने बताया कि इन ट्रक्स की जल्द और बिना किसी दिक्कत के प्रवेश के लिए 3 मेडिकल कैंप लगवाए गए है जहां इन ट्रक्स के ड्राइवर और कंडक्टर की थर्मल स्कैनिंग और स्वस्थ्य जांच की जा रही है. इसके साथ ही 3 पास काउंटर भी बनाये गए हैं जहां इन सभी ट्रक्स को प्रदेश में आवागमन के पास जारी किये जा रहे हैं.

उन्होंने बताया कि इन दिनों लखनपुर से किसी भी यात्री वाहन को आने की इजाज़त नहीं है ऐसे में इन ट्रक्स को कुछ ही मिनटों में यहां से रवाना किया जा रहा है. वहीं, प्रशासन ने लखनपुर में कंट्रोल रूम भी शुरू किया है. इस कंट्रोल रूम को ट्रक्स के आवागमन और स्वस्थ्य सम्बंधित कारणों से यात्रा कर रहे लोगों की मदद करने के लिए शुरू किया गया है. लोग किसी तरह की जानकारी के लिए 01992-285329, 01992-285330 पर संपर्क कर सकते हैं.