गणतंत्र दिवस: जमीन से आसमान तक कड़ी सुरक्षा, कई मार्गो और मेट्रो स्टेशन दोपहर तक बंद

गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर राजधानी दिल्ली में जमीन से लेकर आसमान तक सुरक्षा रहेगी। आतंकी हमले के इनपुट को देखते हुए सुरक्षा के इस कदर इंतजाम किए गए हैं कि परिंदा भी पर नहीं मार सकेगा। गणतंत्र दिवस की परेड के लिए नई दिल्ली में करीब 10 हजार पुलिसकर्मी सुरक्षा में तैनात रहेंगे। राजपथ के चारों तरफ रेड जोन बनाया गया है जहां गाड़ियों को शुक्रवार रात 11 बजे के बाद आने नहीं दिया गया। रात को ही बॉर्डरों को सील कर दिया गया था।

सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए दिल्ली मेट्रो के कुछ स्टेशन आंशिक रूप से दोपहर तक बंद रहेंगे। दिल्ली मेट्रो ने गणतंत्र दिवस को लेकर अपने ट्विटर हैंडल से लोगों को यह जानकारी दी है। दिल्ली मेट्रो ने ट्वीट करते हुए बताया कि दिल्ली में चार मेट्रो स्टेशन आइटीओ, दिल्ली गेट, लाल किला, जामा मस्जिद के कुछ गेट सुबह छह बजे से दोपहर 12 बजे तक के लिए बंद रहेंगे।

दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता मधुर वर्मा ने बताया कि राजपथ के विजय चौक से लेकर लाल किले तक 300 कैमरे लगाए गए हैं। पहली बार फेस रीडर कैमरे लगाए गए हैं, जो संदिग्ध को देखते ही पुलिस को अलर्ट कर देंगे।

दिल्ली पुलिस अधिकारियों के अनुसार, गणतंत्र दिवस समारोह के लिए राष्ट्रपति भवन से लाल किले के बीच एयरफोर्स, दिल्ली पुलिस, एनएसजी, एसपीजी के अलावा अर्द्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है। ऊंची इमारतों पर शार्प शूटरों को भी तैनात किया गया है। हवाई हमले से बचाने के लिए इंडिया गेट के अलावा अन्य स्थानों पर रडार की तैनाती की गई है। एंटी एयरक्राफ्ट गन भी लगाई गई हैं।

दिल्ली के बॉर्डरों को शुक्रवार रात को ही सील कर दिया गया। पड़ोसी राज्यों की पुलिस के साथ संयुक्त रूप से चेकिंग शुरू कर दी गई थी। वाहनों को चेकिंग के बाद ही दिल्ली में प्रवेश दिया जा रहा था। दिल्ली में जगह-जगह पिकेट्स लगाकर चेकिंग की जा रही थी। बाजारों, मॉल्स व अन्य भीड़भाड़ वाली जगहों पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था बरती जा रही थी। पुलिसकर्मियों की छुट्टियां पहले से ही रद्द की हुई हैं। परेड के समय सुबह 9.50 से 12.30 बजे तक दिल्ली के आसपास हेलिकॉप्टरों से आसमान पर नजर रखी जाएगी। भूमिगत मेट्रो स्टेशनों व राजपथ के आसपास मौजूद कार्यालयों को अपने संरक्षण में ले लिया गया है।