कोरोना परीक्षण में जम्मू-कश्मीर देश में दूसरे स्थान पर, रोज 1000 टेस्ट कराने की तैयारीः रोहित कंसल

सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल ने बताया कि जम्मू-कश्मीर में कोविड टेस्टिंग की दर में बढ़ोतरी की गई है। अब प्रति दस लाख लोगों पर 703 सैंपल जांचे जा रहे हैं। यह दर देशभर में दूसरे स्थान पर है। पहले प्रति दस लाख में टेस्टिंग की यह दर 77.5 चल रही थी। शुरुआत में रोजाना 50 टेस्ट करने की क्षमता थी, लेकिन अब रोजाना 700 तक टेस्ट किए जा रहे हैं।कोशिश की जा रही है कि जल्द ही प्रतिदिन 1000 टेस्ट की क्षमता की जाए, ताकि कोरोना संक्रमण के अधिक से अधिक मामलों की शिनाख्त की जा सके। इस बीच जम्मू संभाग में फिलहाल रैपिड किट से कोरोना टेस्टिंग पर रोक लगा दी गई है। देश के विभिन्न हिस्सों में रैपिट टेस्ट किट पर उठे सवालों के बाद ऐसा किया गया है।

सूत्रों के अनुसार गत दिनों जम्मू संभाग के लिए करीब 4800 रैपिट टेस्ट किट पहुंची थीं। इसका हॉटस्पाट या अन्य सामुदायिक क्षेत्रों में कोरोना टेस्टिंग के लिए इस्तेमाल किया जाना प्रस्तावित है। इसके लिए चिकित्सा कर्मचारियों को प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। फिलहाल रैपिड किट से टेस्ट पर रोक लगा दी गई है। स्वास्थ्य निदेशक जम्मू डॉ. रेणु शर्मा के अनुसार चिकित्सा स्टाफ को प्रशिक्षण दिया जा रहा है और केंद्र सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक रैपिड टेस्ट शुरू किए जाएंगे।