विधायक के हथियार चुराने वाले एसपीओ का साथी गिरफ्तार

पुलिस ने पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के विधायक के घर से हथियार चुराकर आतंकियों से जा मिले स्पेशल पुलिस ऑफिसर (एसपीओ) आदिल बशीर के एक करीबी साथी मोहम्मद रफीक अहमद बट को पुलवामा से उसके एक ठिकाने से गिरफ्तार कर लिया। रफीक 30 सितंबर को आतंकी बना था और उसका कोड सलाहुदीन था। फिलहाल, उससे पूछताछ जारी है। इस बीच, पुलिस ने खुनमोह में गत रोज आतंकियों से संबंधों के आरोप में पकड़े गए दो युवकों को पूछताछ के बाद रिहा कर दिया।

जिला शोपिया में वाची विधानसभा क्षेत्र से निर्वाचित पीडीपी विधायक एजाज अहमद मीर के घर से 28 सितंबर को एक एसपीओ आदिल बशीर हथियार चुराकर हिजबुल मुजाहिदीन का सक्रिय आतंकी बन गया था। अधिकारियों ने बताया कि आदिल की तलाश की जा रही है। उसके सभी संभावित ठिकानों पर दबिश दी जा रही है। उसके कुछ खास साथी जो आतंकियों के ओवरग्राउंड वर्कर भी हैं, उनकी निगरानी भी की गई। इस दौरान मोहम्मद रफीक बट का पता चला। मोहम्मद रफीक को आदिल का करीबी माना जाता है और वह भी आतंकियों के लिए काम करता था। मोहम्मद रफीक के घर 29 सितंबर को जब सुरक्षाबलों ने छापा मारा तो वह भाग गया और अगले ही दिन सोशल मीडिया पर उसकी हथियारों संग तस्वीर वायरल हो गई।

बुधवार रात पता चला कि वह जिला पुलवामा के अच्छन गाव में अपने एक रिश्तेदार के घर छिपा है। वीरवार तड़के पुलिस दल ने उसके रिश्तेदार के घर छापा मारा। पुलिस को देखकर मोहम्मद रफीक अहमद ने बच निकलने का पूरा प्रयास किया, लेकिन पकड़ा गया। पुलिस प्रवक्ता ने हिज्ब आतंकी रफीक अहमद बट उर्फ सलाहुदीन को अच्छन पुलवामा में एक नाका पार्टी ने तलाशी के दौरान पकड़ा है। उसके पास से एक एसाल्ट राइफल, दो मैगजीन, 40 कारतूस और अन्य साजो सामान भी मिला है।

वह 28 सितंबर को वाची के विधायक एजाज अहमद मीर के घर से हथियार लूटने की वारदात में शामिल था। इस बीच, एक अन्य सूचना के मुताबिक पुलिस ने खनमोह के दो युवकों इकबाल अहमद गनई और हिलाल अहमद गनई को पूछताछ के बाद रिहा कर दिया है। यह दोनों आसिया नामक उस महिला के भाई बताए जाते हैं, जिसे गत मंगलवार को पुलिस ने श्रीनगर के बाहरी क्षेत्र लावेपोरा में एक टवेरा टैक्सी की तलाशी के दौरान 20 हथगोलों समेत पकड़ा था।