अकेले हार्दिक ही धोनी की टीम पर पड़े ऐसे भारी, चेन्नई के कोच फ्लेमिंग तक बने उनके फैन

पहले तीन मैच जीत कर एमएस धोनी की चेन्नई टीम आईपीएल के सीजन 12 की अंक तालिका में शीर्ष पर थी. वहीं मुंबई की टीम तीन में से दो नजदीक मैच हार कर वापसी को लेकर दबाव में थी. ऐसे में हार्दिक पांड्या ने अपने आलराउंड प्रदर्शन से बुधवार को यहां न सिर्फ मुंबई को मौजूदा चैंपियन चेन्नई पर 37 रन से जीत दिलाई बल्कि प्रतिद्वंद्वी टीम के मुख्य कोच स्टीफन फ्लेमिंग को भी अपना मुरीद बना दिया.

पांड्या ने केवल आठ गेंदों पर नाबाद 25 रन बनाये और फिर 20 रन देकर मुंबई के तीन महत्वपूर्ण विकेट लिये. इनमें चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का विकेट भी शामिल है. पांड्या के प्रदर्शन ने चेन्नई को मैच में वापसी करने का बिलकुल मौका नहीं दिया. हालांकि यह भी सच है कि मुंबई की इस जीत में किरोन पोलार्ड, लसिथ मलिंगा, जसप्रीत बुमराह का भी योगदान था.

फ्लेमिंग ने बांधे हार्दिक की तारीफों के पुल
फ्लेमिंग ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘मैं पांड्या का बहुत बड़ा प्रशंसक हूं. वे लाजवाब खिलाड़ी हैं. वे आत्मविश्वास से भरे हैं. ऐसा लगता है कि उनके पास वह माद्दा है जो कि वे डेथ ओवरों में कर रहे हैं. टीमों को अब उनको रोकने के लिए रणनीति बनानी चाहिए. हमने जो कुछ किया हम उससे खुश हैं कि लेकिन हम अपनी रणनीति पर अच्छी तरह से अमल नहीं कर पाए.’’ न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान ने कहा, ‘‘वह बेजोड़ खिलाड़ी है. मेरा मानना है कि वह मुंबई और भारतीय टीम में बेहद खास खिलाड़ी है. अगर आप उस पर अंकुश लगा सकते हो तो मैच जीत सकते हो. लेकिन आज उसने बल्ले और गेंद दोनों से बेहतरीन प्रदर्शन किया.’’

समय पर समाप्त होना चाहिए मैच
फ्लेमिंग ने इस पर सहमति जताई कि टी20 मैच चार घंटे तक नहीं खिंचना चाहिए जैसा कि बुधवार को हुआ. उन्होंने कहा, ‘‘मैच समय पर समाप्त करने के लिए सामूहिक प्रयास करने होंगे. ओस के कारण नमी अपनी भूमिका निभाती है. क्रिकेट उसी गति से खेला जाता है जैसा उसे खेला जाना चाहिए. क्रिकेट को खेल के प्रारूपों में गति देने की जरूरत है. अगर इससे कप्तानों और गेंदबाजों पर दबाव बनता है तो ऐसा होना चाहिए.