World Cup 2019: टीम इंडिया को मिलेगा इस मैदान पर न्यूजीलैंड से बदला लेने का मौका

नई दिल्ली: टीम इंडिया की इंग्लैंड में विश्व कप 2019 के अभ्यास मैच से टूर्नामेंट की शुरुआत उम्मीद के मुताबिक नहीं रही. टीम को मौसम में बदलाव के कारण पिच का मिजाज बिलकुल बदला हुआ मिला जिसमें टीम के प्रमुख बल्लेबाज नाकाम साबित हुए. ओवल के केनिंग्टन मैदान पर हुए इस मैच में न्यूजीलैंड की स्विंग बॉलिंग ने भारतीय दिग्गजों के खुल कर खेलने नहीं दिया और छह विकेट से आसान जीत दर्ज कर ली. अब टीम इंडिया को न्यूजीलैंड से हिसाब चुकाने का मौका आगामी 13 जून का नॉटिंघम में मिलेगा.

क्या रिकॉर्ड है टीम इंडिया का नॉटिंघम में
नॉटिंघम के टेंटब्रिज मैदान पर 13 जून का टीम इंडिया को न्यूजीलैंड के साथ दो-दो हाथ करने हैं. यह टीम इंडिया के लिए हाई प्रोफाइल मैच होगा. इस मैदान पर टीम इंडिया का मिला जुला अनुभव रहा है. अब तक खेले छह मैचों में टीम इंडिया ने केवल तीन मैच जीते हैं और तीन मैचों में उसे हार मिली है. इस मैदान पर टीम इंडिया का रनरेट 5.07 है जबकि यहां औसतर हर 36 रन के बाद विकेट गिरे हैं.

क्या नतीजे रहे इन छह मैचों में 
टीम इंडिया ने इस मैदान पर चार मैच इंग्लैंड के खिलाफ, एक मैच ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला है. 1999 के विश्व कप में टीम ने एक मैच न्यूजीलैंड के ही खिलाफ खेला है. इस मैच में भारत को हार का सामना करना पड़ा था. ऑस्ट्रेलिया भी 1983 में भारतीय टीम को यहां हरा चुकी है. वहीं इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया ने चार में से तीन मैच जीते हैं जिनमें से दो जीत पिछले दो मैचों (2014 और 2018) में उसे मिली हैं.

क्या हुआ था 1999 विश्व कप में न्यूजीलैंड के खिलाफ
1999 विश्व कप में टीम इंडिया मोहम्मद अजहरुद्दीन की कप्तानी में इंग्लैंड गई थी. टीम में सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़, अजय जडेजा जैसे दिग्गज बल्लेबाज थी. सुपर 8 के इस मुकाबले में टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने उतरी टीम इंडिया के बल्लेबाज लंबी और तेज पारी खेलने में नाकाम रहे थे. तेंदुलकर(16), गांगुली (29), द्रविड़ (29), कप्तान अजहर (30) टीम को मजबूती नहीं दे सकी. केवल अजय जडेजा ने 76 रनों की पारी खेली जिसके दम पर टीम ने पचास ओवर में 251 सम्मानजनक स्कोर खड़ा किया.

न्यूजीलैंड को नहीं रोक सके टीम इंडिया के बॉलर्स
न्यूजीलैंड की टीम ने 252 रनों का लक्ष्य 49वें ओवर में ही पांच विकेट खोकर हासिल कर लिया. टीम इंडिया की ओर से देवाशीष मोहंती ने दो विकेट लिए जबकि जगावल श्रीनाथ और रॉबिन सिंह को एक एक विकेट मिला था. न्यूजीलैंड के लिए हॉर्ने ने 76 रन की पारी खेल अपनी टीम को मजबूत शुरुआत दी. बाद में रोजर टोज ने नाबाद 60 रनों की पारी खेल न्यूजीलैंड को जीत दिलाई.

रोहित और कुलदीप खूब चले थे पिछली बार
पिछले साल ही टीम इंडिया इंग्लैंड के दौरे पर आई थी तब उसने इंग्लैंड को इसी मैदान पर हराया था. इस बार भी विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी चुनी थी. इस मैच में कुलदीप यादव ने अपने करियर का बेस्ट प्रदर्शन करते हुए 10 ओवरों में केवल 25 रन ही देकर छह विकेट लिए थे और इंग्लैंड के खेमे में तहलका मचा दिया था. इंग्लैंड के दिए 269 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए उस मैच में रोहित शर्मा ने 137 रनों की शानदार नाबाद पारी खेली थी. वहीं कप्तान विराट कोहली ने भी 75 रनों की अच्छी पारी खेली थी. शिखर धवन ने 40 रन बनाकर रोहित के साथ टीम को मजबूत शुरुआत दी थी. भारत ने यह मैच 41वें ओवर में ही 8 विकेट से जीता था.

Kuldeep yadav

क्या रहा इससे पहले टीम का हाल
2014 में भारत के बॉलर्स (भुवी, जडेजा, अश्विन, रैना, रायडू) ने शानदार गेंदबाजी कर इंग्लैंड को केवल 227 रन पर समेट दिया था. अंबाती रायडू के शानदार नाबाद फिफ्टी (65),  अजिंक्य रहाणे (40) की अच्छी शुरुआत और अंत सुरैश रैना की 42 रनों की पारी ने टीम इंडिया को 43 वें ओवर में ही जीत दिला दी. 2004 में टीम इंडिया को इंग्लैंड से हार का सामना करना पड़ा था, जबकि 1990 में कप्तान अजहर, दिलीप वेंगसरकर, संजय मांजरेकर ने हाफ सेंचुरी लगाकर भारत को जीत दिलाई थी.

यह रिकॉर्ड है इस मैदान का भारत के लिए
मजेदार बात यह है कि 1983 के बाद हुए पांचों मैचों में बाद में बल्लेबाजी करनी वाली टीम ने मैच जीता है. इसमें भी केवल दो बार टॉस जीतने वाली टीम ने पहले बल्लेबाजी की इसमें ऑस्ट्रेलिया ने भारत को करारी मात दी वहीं 1999 में पहले बल्लेबाजी चुनने के बाद अजहरुद्दीन को हार का सामना करना पड़ा. इस मैदान पर सबसे ज्यादा स्कोर ऑस्ट्रेलिया ने 320 रन बनाए हैं. उसी मैच में टीम इंडिया ने सबसे कम रन 158 रन बनाए थे.