जम्मू-कश्मीर: लॉकडाउन में ईंट भट्ठों को शुरू करने के दिए गए आदेश

कोरोना वायरस को रोकने के लिए जारी लॉकडाउन के कारण पटरी से उतरी अर्थव्यवस्था को वापस पटरी पर लाने के लिए जम्मू में ईंट के भट्ठों को शुरू कर दिया गया है. लॉकडाउन के चलते जम्मू में अब तक ईंट के व्यापार से जुड़े लोग 500 करोड़ का नुकसान उठा चुके हैं.

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने जम्मू में चल रहे करीब 250 ईंट के भट्ठों को दोबारा शुरू करने के आदेश दे दिए हैं. प्रदेश प्रशासन की तरफ से जारी इस आदेश में ईंट भट्ठों के मालिकों को और इन भट्ठों में काम कर रहे मजदूरों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग रखना और मास्क पहनना जरूरी कर दिया है.

इसके साथ ही इन मजदूरों को अपने घरों से बाहर ना जाने को भी कहा है. जम्मू ब्रिक क्लिन एसोसिएशन के सचिव प्रभु दयाल गुप्ता की माने तो जम्मू में ईंट के भट्ठे साल में दो सीजन में काम करते हैं. उनके मुताबिक जम्मू में मार्च से जून और सितंबर से दिसंबर तक ये महीने होते हैं. उनके मुताबिक साल भर में जम्मू में ईंट का कारोबार 1000 करोड़ का है और जम्मू के 250 ईंट के भट्ठों में एक लाख लोग काम करते हैं.

उनके मुताबिक कोरोना वायरस के चलते इस बार ईंट भट्ठा मालिकों का एक सीजन बिल्कुल व्यर्थ गया है. वहीं, प्रशासन के इस आदेश के बाद अब ईंट भट्ठा मालिक काफी खुश हैं.