जम्मू से कश्मीर ट्रक में जा रहे हथियार बरामद, दो आतंकवादी गिरफ्तार

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले के काजीकुंड इलाके में सुरक्षाबलों के संयुक्त नाके पर चेकिंग के दौरान एक ट्रक से हथियारों का जखीरा बरामद हुआ है। इस दौरान दो आतंकियों को भी गिरफ्तार किया गया है। बताया गया कि आतंकवादी हथियारों को लेकर कश्मीर की तरफ जा रहे थे। यह हथियार जम्मू के अखनूर इलाके से आए हैं।

पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आतंकियों से पूछताछ में कई बातों का पता चला है। हालांकि, अभी यह साफ नहीं कहा जा सकता है कि पकड़े गए दोनों आतंकवादी ऐक्टिव टेररिस्ट हैं या केवल आतंकवादियों के लिए हथियारों की सप्लाई का काम करते हैं। जानकारी के मुताबिक, आईबी के रास्ते पाकिस्तान से हथियार इस तरफ आए और अब आगे उन्हें कश्मीर में सक्रिय आतंकियों तक पहुंचाया जा रहा था।

बरामद हुआ हथियारों का जखीरा
जानकारी के अनुसार देर रात को जवाहर टनल के पास वाहनों की चेकिंग की जा रही थी। इस दौरान एक ट्रक नंबर जेके22 बी-1737 को रोका गया। जब उसकी चेकिंग की गई तो अंदर से हथियारों का जखीरा बरामद हुआ। इसमें एक एके-47 राइफल, उसकी दो मैगजीन, एक एम-4 राइफल उसकी तीन मैगजीन, 6 पिस्टल तथा उसकी 12 मैगजीन बरामद हुई। इसके अलावा एक आईईडी का डिब्बा भी बरामद हुआ है। इतने हथियार बरामद होने के बाद एजेंसिया अलर्ट हो गईं।

दोनों आतंकवादी गिरफ्तार
दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। उनकी पहचान बिलाल अहमद तथा शाहजवाज अहमद के रूप में हुई है। कड़ी पूछताछ के दौरान दोनों ने बताया कि वह हथियारों को ट्रक में छिपाकर कश्मीर की तरफ ला रहे थे। पूछताछ में पता चला कि वह अखनूर से हथियारों को लेकर आए थे। जिसके बाद पुलिस के आला अधिकारियों के आदेश के बाद एक टीम को अखनूर के लिए रवाना कर दिया गया। ताकि पता किया जा सके कि इन लोगों ने हथियारों की सप्लाई कहां से ली हुई थी। उसके बाद ही पूरे मामले का पता चलेगा। इस मामले में बाकी एजेंसियां भी जांच करने में लग गई हैं।

बता दें कि इसी साल कठुआ आईबी पर भी हथियारों को बरामद किया गया था। पाक की तरफ से ड्रोन के रास्ते इस तरफ हथियारों को भेजा गया था लेकिन इससे पहले कि आतंकियों के मददगारों तक हथियार पहुंचते बीएसएफ के जवानों ने उसे बरामद कर लिया था। इस मामले को भी उस तरह से देखा जा रहा है। अखनूर के रास्ते इस तरफ हथियार आए और फिर मददगारों की मदद से कश्मीर में आतंकियों तक पहुंचाया जा रहा था।