जम्मू-कश्मीर में क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए इस क्रिकेटर ने रखा ये प्रस्‍ताव

भारत के पूर्व क्रिकेटर सुरेश रैना सुविधाओं से वंचित जम्मू-कश्मीर के बच्चों के लिए खुलकर सामने आए हैं, वो इस केंद्र शासित प्रदेश में क्रिकेट का विकास चाहते हैं. रैना ने हाल में ही अंतरराष्ट्रीय करियर से संन्यास ले लिया था. उन्होंने कहा, ‘मैं जम्मू-कश्मीर के स्कूलों, कॉलेजों और ग्रामीण इलाकों से युवा टैलेंट खोजना चाहता हूं, ताकि उनके हुनर को तराशने में मदद कर सकूं और जिससे ये खिलाड़ी राष्ट्रीय टीम में योगदान दे सकें.’

इसके लिए सुरेश रैना ने जम्मू-कश्मीर के डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस दिलबाग सिंह को चिट्ठी लिखी है. रैना ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा कि, ‘मैंने लंबे वक्त तक बड़े ही गर्व के साथ भारतीय टीम को रिप्रेजेंट किया है. मुझे मौका मिला है कि मैं वर्ल्ड क्रिकेट में भारत का ब्रांड एम्बेस्डर बनूं, अब वक्त आ गया है कि मैं समाज के लिए कुछ करूं, जिन्होंने मुझे इतना प्यार, सपोर्ट और आशीर्वाद दिया है.’

सुरेश रैना ने ये भी कहा, ‘चूंकि मेरे पूर्वज कश्मीर के हैं और मैं खुद को अपनी जड़ों से जुड़ा हुआ पाता हूं, जो इन घाटियों में मौजूद है, मूल रूप से कश्मीरी पंडित होने के नाते मैं चाहता हूं कि जम्मू-कश्मीर के बच्चों में स्पोर्ट्समैनशिप, क्रिकेट की भावना, और नैतिक मूल्यों का विकास हो. यही वजह है कि मैंने जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह जी और अनंतनाग के एसएसपी संदीप चौधरी जी को चिट्ठी लिखी है और ये प्रस्ताव रखा है.’