19 हजार किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से धरती की ओर बढ़ रहा है एवरेस्ट के साइज का उल्कापिंड

एक उल्कापिंड धरती की तरफ बढ़ रहा है और इसकी रफ्तार 19 हजार किलोमीटर प्रतिघंटे से भी अधिक है. अगर ये उल्कापिंड गलती से भी पृथ्वी से टकराया तो बहुत बड़ी तबाही हो सकती है. हालांकि फिलहाल ऐसी कोई आशंका नहीं है और ये पृथ्वी की कक्षा के बाहर से ही निकल जाएगा.

खबर के मुताबिक ये उल्कापिंड 29 अप्रैल की सुबह करीब छह बजे पृथ्वी के बेहद पास से गुजरने वाला है. अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा के मुताबिक इसकी गति 19 हजार किलोमीटर प्रतिघंटा है. एजेंसी ने साफ कहा कि लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है.

नासा के मुताबिक ये उल्कापिंड माउंट एवरेस्ट जितना बड़ा है. बुधवार सुबह पांच बजकर 56 मिनट पर ये उल्का धरती के पास से गुजरेगा. वैज्ञानिकों ने इसको 1998OR2 नाम दिया है. वैज्ञानिकों ने कहा कि अक्सर धरती के पास से ऐसे उल्का गुजरते रहते हैं. कुछ उल्का काफी छोटे होते हैं तो कुछ बड़े होते हैं. लेकिन इतने बड़े उल्का कभी कभी आते हैं.

आपको बता दें कि वैसे तो उल्का के रास्ता बदलने की संभावना कम ही होती है लेकिन अगर जरा सा भी रास्ता बदला या फिर धरती के गुरुत्वाकर्षण ने उल्का को आकर्षित किया तो दुनिया के लिए बहुत बड़ी समस्या पैदा हो सकती है.

इसीलिए दुनिया भर के वैज्ञानिक इस उल्का पर नजर रखे हुए हैं. करीब डेढ महीने पहले से ही नासा के लोग इस उल्का पर नजर बनाए हुए हैं क्योंकि इसका आकार काफी बड़ा है और ये धरती के काफी पास से गुजरने वाला है. ये पृथ्वी पर बहुत बड़ी तबाही करने की क्षमता रखता है लिहाजा इसके लिए धरती के वैज्ञानिकों की तैयारी भी काफी है.