J&K: आज से बाहरी राज्यों के 500 श्रद्धालु कर सकेंगे माता वैष्णो देवी के दर्शन, विशेष पूजा के लिए ऑनलाइन बुकिंग शुरू

माता वैष्णो देवी के दरबार में बाहरी राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं का कोटा 250 से बढ़ाकर 500 कर दिया गया है। इसके साथ ही श्रद्धा सुमन विशेष पूजा के लिए बुकिंग भी शुरू कर दी गई है, जो ऑनलाइन होगी। एसओपी का पालन करते हुए श्राइन बोर्ड के भवन, अर्द्धकुंवारी, कटड़ा और जम्मू में तीर्थ यात्रियों के लिए ठहरने की सुविधा को पुन: बहाल कर दिया गया है। श्राइन बोर्ड के सीईओ रमेश कुमार ने बताया कि श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या को देखते हुए यह फैसला किया गया है। यह सारी व्यवस्थाएं आज से प्रभावी हो जाएंगी। 

सीईओ ने बताया कि 16 अगस्त से बहाल श्री माता वैष्णो देवी की यात्रा हर्षोल्लास और उत्साह से जारी है। रोजाना प्रदेश सहित देशभर के भक्तों में वृद्धि हो रही है। इसे ध्यान में रखते हुए अगले आदेश तक दूसरे राज्यों से आने वाले भक्तों का कोटा 250 से बढ़ा कर 500 प्रतिदिन कर दिया है। शुरुआत में यात्रा में 1900 जम्मू-कश्मीर और 100 बाहरी राज्यों के यात्रियों के लिए कोटा निर्धारित किया गया था। बाद में इसे बढ़ाकर 250 कर दिया था। उन्होंने बताया कि ताराकोट मार्ग पर मुफ्त लंगर और सांझीछत्त में प्रसाद केंद्र भी संचालित किए जा रहे हैं। इसके साथ ही बैटरी कार, रोपवे और हेलिकॉप्टर सुविधा भी बहाल है। यात्रा मार्ग व भवन क्षेत्र में भोजनालय भी चल रहे हैं। 

बाहरी राज्य के लोगों के पास कोरोना निगेटिव प्रमाणपत्र जरूरी
उन्होंने बताया कि ऑनलाइन पंजीकरण के बाद भी यात्रियों को यात्रा के लिए जाने की अनुमति होगी। यात्रियों को फेस मास्क पहनना अनिवार्य होगा। यात्रा के लिए प्रवेश द्वार पर सभी यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग होगी। दस साल से कम के बच्चे, गर्भवती तथा 60 साल से अधिक आयु के लोगों को यात्रा पर जाने की अनुमति नहीं होगी। बाहरी राज्यों तथा जम्मू-कश्मीर के रेड जोन से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए कोरोना निगेटिव होने का प्रमाणपत्र होना जरूरी है। हैलीपैड, दर्शन ड्योढ़ी तथा बाणगंगा पर इसकी जांच की जाएगी। इसके बाद ही आगे की यात्रा पर जाने की अनुमति होगी।