कोरोना : दुनियाभर में मरीजों की संख्या एक लाख के पार, 3466 लोगों की मौत, 56126 हुए ठीक

दुनियाभर में कोरोनावायरस की भयावहता बढ़ती ही जा रही है। इस बीच शुक्रवार देर रात तक इसके संक्रमितों की संख्या एक लाख के पार पहुंच गई। दुनिया के 96 देशों को चपेट में ले चुकी इस बीमारी से अब तक 3466 लोगों की मौत हो गई है। हालांकि 56126 लोग इस बीमारी से जंग जीतकर ठीक भी हुए हैं। शुक्रवार को एशियाई देश भूटान में भी कोरोना संक्रमण का पहला मामला सामने आया। वहीं, ईसाइयों के पवित्र शहर बेथलेहम में पहला मामला सामने आने के बाद वहां आपातकाल घोषित कर दिया गया है।आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक इसका सबसे ज्यादा कहर चीन में है जहां से इसकी शुरुआत हुई थी। शुक्रवार देर रात तक चीन में 80,576 लोग इससे संक्रमित थे और 3,042 लोगों की जान जा चुकी थी। कोरोना के 101,770 मरीजों में चीन के बाहर 21,194 लोग हैं। वहीं, चीन के बाहर 370 लोगों की जान गई है। चीन के बाद कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित देश दक्षिण कोरिया है। जहां 6,593 लोगों में इसकी पुष्टि हुई है और 43 लोगों की मौत हुई है। वहीं, इटली में 4,636 लोग संक्रमित मिले हैं और 197 लोगों की जान गई है। इसके बाद ईरान में इसका कहर है। जहां पॉजिटिव मिले 4,747 मरीजों में से 124 की जान जा चुकी है।

लोगों की आवाजाही रोक रही ईरान सरकार

ईरान में फैलाते संक्रमण के चलते सरकार ने सख्ती का फैसला किया है। अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि दो शहरों के बीच लोगों की आवाजाही को सीमित करने के लिए बल प्रयोग किया जा सकता है। ईरानी स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, देश के सभी 31 प्रांतों में संक्रमित मरीज मिल चुके हैं। इसके मद्देनजर लोगों को आवाजाही सीमित करने की सलाह दी गई है। इस बीच, ईरान में विदेश मंत्री के सलाहकार हुसैन शेखोलेसलाम की कोरोना से मौत हो गई है। उन्होंने 1979 के अमेरिकी दूतावास बंधक संकट में भी हिस्सा लिया था।

तालाबंदी-पृथक रखने के दौरान मौलिक अधिकारों का सम्मान हो : संयुक्त राष्ट्र

जिनेवा। कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए सरकारों द्वारा उठाए जाने वाले तालाबंदी और लोगों को अलग रखने जैसे कदमों के दौरान मूल अधिकारों का सम्मान होना चाहिए। साथ ही उनकी रोजी-रोटी का ख्याल रखना चाहिए। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुख मिशेल बेशलेट के कार्यालय ने कहा, वायरस का प्रसार रोकने के दौरान लोगों के अधिकारों का सम्मान होना चाहिए।