पाकिस्तान में करतारपुर कॉरिडोर का हुआ शिलान्यास, पाक आर्मी चीफ के साथ दिखा खालिस्तानी

भारत के बाद पाकिस्तान में भी बुधवार को सीमा के करीब स्थित सिखों के पवित्र धार्मिक स्थल करतारपुर साहिब कॉरिडोर की नींव डाल दी गई।पाक के पीएम इमरान खान ने कॉरिडोर का शिलान्यास किया। समारोह में पाकिस्तान के न्योते पर भारत सरकार के 2 मंत्री हरसिमरत कौर, हरदीप पुरी और पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू हिस्सा लेने पहुंचे। पाकिस्तान के करतारपुर में आयोजित समारोह में आतंकी सरगना हाफिज सईद का करीबी सहयोगी और खालिस्तान समर्थक गोपाल चावला भी मौजूद था। यही नहीं समारोह के दौरान वह पाकिस्तानी सेना प्रमुख बाजवा के साथ हाथ मिलाता हुआ भी नजर आया।

शिलान्यास कार्यक्रम में एक फिल्म दिखाई गई, जिसमें जिन्ना से लेकर नवजोत सिंह सिद्धू के बयानों को दिखाया गया। कार्यक्रम में सिद्धू ने करतारपुर साहिब कॉरिडोर पर आगे बढ़ने के लिए इमरान खान की जमकर तारीफ की। कार्यक्रम में पाकिस्तान के आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा भी मौजूद रहे।

पाक सेना प्रमुख के बगल में खड़ा था खालिस्तानी नेता
इस समारोह में खालिस्तानी अलगाववादियों की भी मौजूदगी दिखी। आतंकी सरगना हाफिज सईद का सहयोगी और खालिस्तान समर्थक नेता गोपाल चावला तो पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल बाजवा के साथ खड़ा दिखा। चावला ने बाजवा से हाथ भी मिलाया। गोपाल चावला अपने भारतविरोधी रुख के वजह से जाना जाता है। लश्कर और जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों से उसका करीबी रिश्ता है।

गुरुद्वारा दरबार साहिब को डेरा बाबा नानक गुरुद्वारा से जोड़ेगा कॉरिडोर
यह कॉरिडोर करतारपुर स्थित गुरुद्वारा दरबार साहिब को भारत के गुरदासपुर जिले में स्थित डेरा बाबा नानक गुरुद्वारा से जोड़ेगा। भारत ने 20 साल पहले इस कॉरिडोर को बनाने का प्रस्ताव दिया था।


बता दें कि भारत सरकार ने करतारपुर कॉरिडोर पर पाकिस्तान के कदम की सराहना की है, लेकिन साथ ही साफ किया है कि आतंकवाद पर लगाम तक बातचीत की प्रक्रिया शुरू नहीं होगी। पाकिस्तान ने गलियारे के आधारशिलाकार्यक्रम के लिए सिद्धू के साथ-साथ विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को न्योता दिया था। अमरिंदर ने पाकिस्तानकरतारपुर का न्योता ठुकरा दिया।