कोरोनावायरस: चीन के सभी ई-वीजा पर रोक, पुर्तगाल के राष्ट्रपति और वियतनाम के उपराष्ट्रपति आएंगे भारत

पुर्तगाल के राष्ट्रपति और वियतनाम के उपराष्ट्रपति भारतीय दौरे पर आएंगे। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि पुर्तगाल के राष्ट्रपति मार्केलो रेबेलो 13 से-16 फरवरी तक भारत की राजकीय यात्रा पर आएंगे। यह उनकी पहली भारत यात्रा होगी।
उन्होंने आगे कहा कि वियतनाम के उपराष्ट्रपति 11-13 फरवरी को भारत की आधिकारिक यात्रा पर होंगे। यात्रा के दौरान, भारत और वियतनाम के बीच सीधी उड़ान की घोषणा की जा सकती है। कोरोनावायरस पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि हमने दो उड़ानों में 640 भारतीय नागरिकों और सात मालदीव के नागरिकों को चीन से निकालने में सफलता प्राप्त की है।
रवीश कुमान ने कहा, यह एक जटिल ऑपरेशन था और हम इस अभ्यास के दौरान चीन सरकार द्वारा दिए गए समर्थन और सुविधा की सराहना करते हैं। चीन के सभी मौजूदा ई-वीजा अब मान्य नहीं हैं। इसी तरह, सामान्य वीजा जो जारी किए गए हैं, वे भी अधिक समय तक वैध नहीं रहेंगे। जिनके पास भारत आने के लिए खास कारण हैं, वो वीजा के लिए आवेदन करने के लिए हमारे दूतावास या निकटतम वाणिज्य दूतावास से संपर्क कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि वीजा प्रतिबंध केवल चीनी लोगों पर लागू होते हैं। चीन में पाकिस्तानी छात्रों के भारत से मदद मांगे जाने वाले वीडियो पर उन्होंने कहा, हमें इसके बारे में पाकिस्तान सरकार से कोई अनुरोध नहीं मिला है। लेकिन, अगर ऐसी स्थिति पैदा होती है और हमारे पास संसाधन होंगे तो हम इस पर विचार करेंगे।

रवीश कुमार ने आगे कहा, भारत की यात्रा के लिए कुछ श्रेणियों के लिए ई-वीजा उपलब्ध हैं, राजनयिक उस श्रेणी में नहीं आते हैं। दूतावास में राजनयिक वीजा के लिए अनुरोध किया जा सकता है। इसलिए, राजनयिक प्रक्रिया इससे प्रभावित नहीं होगी।

उन्होंने आगे कहा, मुझे भारत और चीन के बीच किसी भी वाणिज्यिक उड़ान के संचालन पर भारत सरकार द्वारा लगाए गए किसी प्रतिबंध की जानकारी नहीं है। एयरलाइंस अपने स्वयं के आकलन के आधार पर निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र हैं।